बढ़ी खबर: रिलायंस कंपनी हुयी दिवालिया घोषित, लोगों का करोड़ों रुपया डूबा, मचा हडकंप

देश के सबसे बड़े अमीर शख्स मुकेश अंबानी अपने छोटे भाई अनिल अंबानी जो की क़र्ज़ में डूबे हुए हैं, धीरे धीरे कर रहे है उनकी मदद NCLAT से मिली मंजूरी के बाद मुकेश अंबानी अपने छोटे भाई को क़र्ज़ से छुटकारा दिलाने के लिए कर रहे हैं मदद|

यह मदद दोनों भाईयों की कंपनियों के बीच हुई डील के जरिए ही हो रही है| बताया जा रहा है की यदि रिलायंस कंपनी को दिवालिया घोषित नहीं करते तो मुकेश अंबानी द्वारा मदद शायद ही अपने भाई अनिल अम्बानी को मिलती|

45000 करोड़ क़र्ज़ में डूबी हुई है रिलायंस कंपनी

45 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के कर्ज में डूबे अनिल अंबानी की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। अभी तक अंबानी कई बैंकों के करोड़ों और अरबों के कर्ज चुकाने में नाकाम हो रहे थे|

यदि फ़िलहाल में उनकी स्थिति देखि जाए तो उन्हें लाखो रुपए भी चुकाना मुस्किल साबित हो रहा है| ऐसे ही मामले में एक कंपनी अपने लाखों रुपए के बकाये को लेकर उनके पीछे पड़ गई है| और अंबानी की प्रमुख कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशन (आरकॉम) को दिवालिया घोषित करने के लिए आवेदन किया है|

मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो इन्फोकॉम ने दिसंबर में आरकॉम के स्पेक्ट्रम, मोबाइल टावर और ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क सहित अन्य मोबाइल बिजनेस एसेट्स खरीदने का सौदा किया था| क़र्ज़ कम करने के लिए यह सब किया गया था|

लेकिन, एरिक्सन की याचिका पर NCLAT ने आरकॉम की टावर बिक्री पर रोक लगा दी थी| मुकेश अंबानी ने जैसे ही अपने भाई की मदद करने में रूचि ली तो रिलायंस कंपनी को मंजूरी दे दी गई|

फिलहाल आरकॉम एन.सी.एल.टी. के इस ऑर्डर के खिलाफ अपील कर सकती है। अगर यहां उसे राहत मिलती है तो अनिल अंबानी की कम्पनी मुकेश अंबानी की कम्पनी के साथ डील पूर्ण रूप से तय कर सकती है|

Facebook Comments