उपवास के 14वें दिन हार्दिक पटेल की तबीयत बिगड़ी, मीडिया नहीं दे रहा कोई खास ध्यान

गुजरात में पटेलों को आरक्षण की मांग को लेकर अनिश्चित कालीन अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल के अनशन को आज 14 वां दिन है और उनकी तबीयत पहले से और ज्यादा बिगड़ गई है, जिसके चलते उन्हें शुक्रवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया है| हार्दिक पटेल को लम्बे समय से उपवास रहने के कारण उन्हें साँस लेने में परेशानी हो रही है| साथ ही उनकी किडनी को भी नुकसान पहुंचा है| आपको बता दें की हार्दिक ने पाटीदारों के आरक्षण के साथ साथ किसानों के हित में भी कुछ मांगे सरकार के सामने रखीं हैं| फिलहाल अस्पताल में भारती होने तक कोई बड़ा भाजपा का नेता इनसे मिलने या हालचाल पूछने के लिए नहीं आया है|

मीडिया कवरेज नहीं दे रहा हार्दिक को

इससे पहले शुक्रवार को सोला सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने उनका परीक्षण करने के बाद उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती होने के लिए सलाह दी थी जिस के बाद वह अस्पताल पहुंचे. इसकी जानकारी खुद हार्दिक पटेल ने अपने ट्विटर पर इसकी जानकारी दी उन्होंने ट्वीट में बताया कि उन्हें अहमदाबाद के सोला अस्पताल में भर्ती किया गया है|

हार्दिक पटेल ने कहा में आखरी सांस तक लोगों के लिए लडूंगा

पटेल ने लिखा कि अनिश्चितकालीन उपवास आंदोलन के चौदवें दिन शुक्रवार को मेरी तबीयत बिगड़ने के कारण मुझे अहमदाबाद की सोला सरकारी अस्पताल में भर्ती किया है. मुझे श्वास लेने में तकलीफ हो रही है और किडनी पर नुकसान बता रहे हैं. अभी तक बीजेपी वाले किसान और समुदाय की माँग को लेकर तैयार नहीं हुए है|

शत्रुधन सिन्हा और यसवंत सिन्हा ने हार्दिक से मुलाक़ात की थी

आपको बता दें कि हार्दिक पटेल सरकरी नौकरियों में शिक्षा में पाटीदार समुदाय के लिए आरक्षण की मांग कर रहे है साथ ही वह किसानों के कर्ज माफ करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठे थे. 25 अगस्त को हार्दिक ने अहमदाबाद के पास अपने फार्महाऊस पर उपवास की शुरुआत की थी|

इससे पहले कांग्रेस के एक प्रतिनिधि मंडल ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणि से इस मामले को लेकर मुलाकात की. विपक्ष के नेता परेश धनानी और करीब 25 विधयाकों ने राज्य सरकार से हार्दिक पटेल से बातचीत करने और उनकी मांगे मांग लेने का अनुरोध किया. मुलाकात के बाद धनानी ने कहा था कि अगर सरकार कोई कदम नही उठती है तो कांग्रेस पटेल के समर्थन में हर जिले में 24 घंटे का उपवास करेगी|

Facebook Comments