भारत की बिकाऊ मीडिया पर भड़के अबू धाबी के प्रिंस, कहा अगर मेरे देश में होते तो तुम्हारी…

हाल ही में सोशल मीडिया के जरिए अबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान की एक वीडियो काफी वायरल हो रही थी। जिसमें बताया जा रहा था|

 

कि उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान जय सियाराम कहकर अपना संबोधन शुरू किया है। इस वीडियो को लेकर भारत में चर्चा का दौर शुरू हो गया था दरअसल यह वीडियो भारतीय मीडिया द्वारा ही चलाई गई थी। लेकिन भारतीय मीडिया की इस हरकत की पोल उस वक्त खुल गई जब दुबई के जाने-माने अखबार गलत न्यूज़ की रिपोर्ट सामने आई।

भारतीय मीडिया ने चला दी थी अबू धाबी के प्रिंस की फर्जी वीडियो

दरअसल इस वीडियो की जब जांच करवाई गई तो सामने आया कि इसे भारत के कुछ जाने माने मीडिया संस्थानों ने प्रमुखता से दिखाया है। लेकिन गलत न्यूज़ का कहना है कि यह वीडियो पुराना है|

मोहम्मद बिन जायद कभी इस तरह के कार्यक्रम में शामिल ही नहीं हुए। जिस शख्स को इस वीडियो में दिखाया गया है दरअसल वह यूएई के अखबारों के कलुमनिस्ट और अरब मामलों के जानकार सुल्तान सऊद अल कासमी हैं|

गल्फ न्यूज़ ने भी भारतीय मीडिया को नीचा दिखाया

इस मामले में सऊदी मीडिया ने भारत के मोदी समर्थक मीडिया को जमकर लताड़ लगाई है। गल्फ न्यूज़ ने कहा है कि भारतीय मीडिया के एक हिस्से और कुछ समूहों द्वारा राजनीतिक फायदे के कारण इस तरह की खबर चलाई गई है।|

दरअसल इस वीडियो में पीएम मोदी के प्रभाव से जोड़ते हुए दिखाया गया कि अबू धाबी के क्राउन प्रिंस अपना संबोधन ‘जय सियाराम’ के साथ शुरू किया दिखाया गया है। जिसे भारत में मोदीभक्त जमकर शेयर कर रहे थे|

आपको बता दें यह वीडियो साल 2016 का है जो कि भारतीय धर्म गुरु मुरारी बापू के सत्संग कार्यक्रम का बताया जा रहा है। दरअसल इस सत्संग में शाही परिवार की भी के सदस्य हिस्सा लेने पहुंचे थे और उनमें से एक ने मंच पर पहुंचकर जय सियाराम से ही अपना संबोधन शुरू किया|

जिसके चलते उनका तालियों से स्वागत भी किया गया इस मामले में मुरारी बापू ने भी साफ किया है कि जय सिया राम का नारा लगाने वाले व्यक्ति शाही परिवार के सदस्य जरूर है लेकिन मैं अबू धाबी के प्रिंस नहीं है|

Facebook Comments